सिंहपर्णी की जड़ से सेहत को होने वाले फायदे / Singhparni ki jad ke fayde

Singhparni ki jad ke fayde

सिंहपर्णी का पौधा ना सिर्फ आपके बगीचे के सौंदर्य को बढ़ाता है बल्कि पीले रंग का यह पौधा आपके स्वास्थ्य में भी चार चाँद लगा देता है। पिछले कई सालों से सिंहपर्णी की जड़ का प्रयोग पूरे विश्व में होता आ रहा है। सिंहपर्णी को पेट की खराबी, मधुमेह, पाइल्स, कब्ज, लिवर और किडनी के विकारों के उपचार के लिए एक औषधि के रूप में इस्तेमाल होता आ रहा है।

सिंहपर्णी की जड़ तथा पतियों का प्रयोग मधुमेह, पाइल्स, कब्ज, पथरी और मूत्राशय के रोग और हजारों प्रकार की बीमारी के लिये किया जाता है। सिंहपर्णी में बीटा कैरोटीन, विटामिन सी, आयरन, कैल्शियम, जिंक और फॉस्फोरस की मात्रा काफी अधिक होती है। इसमें पालक से भी ज्यादा प्रोटीन पाया जाता है तो अगर आपको अपने शरीर को निरोग बनाना है तो सिंहपर्णी की जड़ का प्रयोग शुरू कर देना चाहिए। आज इस पोस्ट में हम आपको Singhparni ki jad ke fayde, सिंहपर्णी के फायदे और नुकसान बतायेंगे।

सिंहपर्णी की चाय बनाने का तरीका

चाय के बर्तन में 2 कप पानी डालें। अब इसमें 2 चमच्च कटी हुई सिंहपर्णी की जड़ डालें। उबलने के बाद गैस बंद कर दें। इस चाय को दिन में 2 बार पिये। बाजार में सिंहपर्णी के टी-बैग्स भी मिलते हैं आप उनका भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

सिंहपर्णी की चाय वजन को घटाये

यदि आप भी अपने बढ़े हुये वजन को कम करना चाहते हैं आज से सिंहपर्णी की जड़ों से बनी चाय का सेवन करें। सिंहपर्णी की जड़ अत्यंत प्रभावी रोचक और मूत्रवर्धक होती है। सिंहपर्णी में भूख को कम करने की और कोलेस्ट्रॉल को कम करने की शक्ति होती है और इसमें कैलोरीज भी कम पायी जाती हैं।

जानें वजन कम करने के असरदार उपाय 

सिंहपर्णी के फायदे करें लिवर को मजबूत

सिंहपर्णी की जड़ों में विटामिन A और विटामिन सी ज्यादा मात्रा में पाये जाते हैं जो लिवर के लिये बहोत फायदेमंद होता है। यह लिवर को मजबूत बनाता है। यह पित को भी बढ़ाता है।

Singhparni ki jad ke fayde kare pachan tantr ko majbut

पाचन तंत्र का स्वस्थ रहना हमारी सेहत के लिये बहोत जरुरी होता है। पाचन तंत्र को दुरुस्त बनाने के लिये आप सिंहपर्णी का इस्तेमाल कर सकते हैं। यह पेट में एसिड और पित को ज्यादा मात्रा में रिलीज करने का भी काम करता है।

सिंहपर्णी की जड़ बनाये हड्डियों को मजबूत

Singhparni ki jad ke fayde. सिंहपर्णी की जड़ों में एंटी-ऑक्सीडेंट पाया जाता है। जो शरीर की हड्डियों को मजबूत बनाता है। सिंहपर्णी की जड़ों में उच्च मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है जो हड्डियों के विकास और मजबूती के लिए बहोत जरुरी होता है। यह हड्डियों को टूटने से बचाता है। सिंहपर्णी की चाय पीने से हड्डियां तो मजबूत होती है दांतो में लगने वाले कीटाणुओं का भी नाश होता है।

जानें कैल्शियम की कमी दूर करने के आसान उपाय 

डायबिटीज के रोगियों के लिये फायदेमंद

सिंहपर्णी की जड़ें शुगर के रोगियों के लिये बहोत फायदेमंद होता है। यह रक्त में शुगर के स्तर को नियंत्रण में रखती है। इसकी जड़ मूत्रवर्धक होती है यह अधिकतम शुगर को शरीर से मूत्र द्वार से बहार निकालती हैं।

सिंहपर्णी की जड़ दिलाये सूजन से राहत

Singhparni ki jad ke fayde. सिंहपर्णी की जड़ें शरीर में उपस्थित अधिक तरल पदार्थ के उपापचय में सहायता कर शरीर में हो रही जलन और सूजन को समाप्त करती है। दिन में 2 सिंहपर्णी की जड़ से बनी चाय पीने से शरीर से सारी सूजन और जलन खत्म हो जाती है।

उच्च रक्तचाप को करें नियंत्रण में

आज कल की भागदौड़ भरी जिंदगी में उच्च रक्तचाप एक आम समस्या बनती जा रही है। इस बीमारी की चपेट में ना सिर्फ बूढ़े बल्कि युवा वर्ग भी आ चुका है। सिंहपर्णी का सेवन करने से आप उच्च रक्तचाप पर आसानी से नियंत्रण पा सकते हैं।

सिंहपर्णी के नुकसान

  • पित नली में रुकावट, दस्त और पेप्टिक अल्सर के मरीजों को सिंहपर्णी का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को सिंहपर्णी का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • अगर आप पहले से किसी दवाई का सेवन कर रहें तो सिंहपर्णी लेने से पहले डॉक्टर की सलाह लें क्योंकि यह दवाई के प्रभाव को बेअसर कर सकता है।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *