HIV-AIDS के कारण, लक्षण और उपाय / HIV-AIDS ke karan, lakshan Aur Upay

HIV-AIDS ke karan, lakshan Aur Upay

HIV-AIDS ke karan, lakshan Aur Upay : AIDS का full form है Acquired Immuno Deficiency Syndrome. एड्स आधुनिक युग में एक बहोत ही गंभीर और जानलेवा रोग है। इस रोग में व्यक्ति अपनी रोग प्रतिकार शक्ति खो देता है। AIDS पीड़ित व्यक्ति के शरीर में प्रतिरोधक क्षमता होने के कारण अवसरवादी संक्रमण जैसे कि सर्दी, खांसी, बुखार और TB जैसे रोग आसानी से हो जाते हैं। और उनका इलाज कर पाना भी कठिन होता है।

AIDS रोग HIV विषाणु के संक्रमण से होता है। HIV का Full Form है Human Immuno Deficiency virus यानि ऐसा विषाणु जो रोग प्रतिकार कम कर देता है। HIV संक्रमण होने के बाद एड्स की स्तिथि तक पहुंचने और लक्षण दिखने में 9-10 साल या इससे इससे ज्यादा समय भी लग जाता है। इतने सालों तक रोगी को समझ ही नहीं आता के उसे हुआ क्या है। धीरे-धीरे करके उसके शरीर की रोगों से लड़ने की शक्ति समाप्त होने लगती है। इस रोग की जांच करवाने के तीन साल के अंदर ज्यादातर रोगियों की मृत्यु हो जाती है। आज इस पोस्ट में हम आपको HIV-AIDS ke karan, lakshan Aur Upay बतायेंगे जिनकी मदद से आप एड्स जैसी खतरनाक बीमारी से बच सकते हैं।

HIV-AIDS ke karan, lakshan Aur Upay

HIV एक प्रकार का संक्रमित विषाणु है। यह वायरस व्यक्ति के शरीर में जाकर उसके खून में मौजूद शवेत रक्त कोशिकाओं में मिल जाता है। धीरे धीरे वायरस का आक्रमण शरीर से सभी शवेत कोशिकाओं को खत्म कर देता है। और इन्हें खत्म करने में HIV वायरस को 9 से 10 साल लग जाते है। HIV संक्रमित व्यक्ति के खून, वीर्य, योनिक पानी और माँ के दूध से HIV संक्रमण होने से AIDS हो सकता है।

HIV संक्रमण के कारण

  • अगर कोई औरत एचआईवी वायरस से संक्रमित है, तो उसे अपना दूध बच्चे को नहीं पिलाना चाहिए, क्योंकि HIV वायरस दूध के माध्यम से बच्चे के शरीर में प्रवेश कर जायेगा।
  • यह बीमारी सिरिंज के माध्यम से भी फैलती है, इसलिए डॉक्टर के पास जाते समय ध्यान रखे वह आपको पुरानी सिरिंज ना लगा दे।
  • AIDS संक्रमित व्यक्ति से खून प्राप्त करने से / HIV-AIDS ke karan, lakshan Aur Upay
  • दाढ़ी करते समय, टैटू लगते समय और शरीर में कोई छेद करते समय उपयोग में लिए जाने वाले सुई, ब्लेड आदि सामग्री HIV विषाणु से संक्रमित होने पर।

इन कारणों से AIDS नहीं फैलता

  • AIDS रोग से ग्रस्त रोगी से हाथ मिलाने से।
  • छींकने या खांसने से।
  • AIDS रोग से ग्रस्त व्यक्ति के साथ रहने और खाना खाने से
  • मच्छर काटने से

AIDS के क्या लक्षण है

  • खांसी और सांस लेने में दिक्कत
  • ठण्ड लगना और बुखार होना
  • अत्यधिक वजन का कम होना
  • बार-बार बुखार आना
  • एक हफ्ते से अधिक समय तक पतले दस्त होना
  • बार-बार फंगल infection होना
  • रात को पसीना आना
  • याददाश् कम होना
  • शरीर में दर्द होना
  • मानसिक रोग
  • थकान होना
  • जोड़ों का दर्द

एचआईवी / एड्स से बचाव

HIV-AIDS ke karan, lakshan Aur Upay

  • ऐसी कोई भी वैक्सीन उपलब्ध नहीं है जो HIV संक्रमण को रोक सके या उन लोगों का इलाज कर सके जिन्हे HIV / एड्स है। एचआईवी / एड्स से बचने का सबसे महत्वपूर्ण तरीका है कंडोम का इस्तेमाल करना। पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए कंडोम उपलब्ध है।
  • असुरक्षित यौन संबंध बनाना एचआईवी के प्रसार का सबसे आम तरीका है। आप पूरी तरह से HIV के जोखिम को खत्म नहीं कर सकते जब तक आप यौन सम्बन्ध बानाने से खुद को रोक नहीं लेते।
  • अपनी और अपने साथी की स्थिति जानने के लिए HIV परीक्षण करायें।
  • अन्य यौन संचरित रोगों के लिए परीक्षण कराएं। यदि आपको ऐसी कोई बीमारी है तो इलाज करें क्योंकि यौन संचरित रोग होने से HIV का खतरा बढ़ जाता है।
  • अपने यौन साथियों की संख्या को सीमित करें। केवल एक साथी के साथ यौन सम्बन्ध बनाये।
  •  अगर दाढ़ी आदि बनवानी हो तो नाई से कहकर हमेशा नये ब्लेड का ही प्रयोग करें।
  • अस्पताल आदि में सुई लगवाते समय हमेशा नई सिरिंज का ही प्रयोग करना चाहिए।
  • खून चढ़वाने से पहले खून की जांच करा लें कि वह कही AIDS रोग से ग्रस्त रोगी का तो नहीं है।

ELISHA Test

ELISHA का मतलब है एंजाइम-लिंक्ड-इम्यूनोसॉरबेन्ट ऐसे जिसका प्रयोग एचआईवी संक्रमण का पता लगाने के लिए किया जाता है।

वेस्टर्न ब्लॉट परीक्षण

यह एक बहोत ही सवेदनशील रक्त परीक्षण है जिसका उपयोग पॉजिटिव ELISHA परीक्षण के परिणाम की पुष्टि के लिए किया जाता है। इससे आपके रक्त में HIV एन्टीबॉडी का पता लगता है।

घरेलु परीक्षण

अमेरिकी फ़ूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन द्वारा स्वीकृत एकमात्र घरेलु परिक्षण को होम एक्सेस एक्सप्रेस टेस्ट कहा जाता है जो केमिस्ट के पास उपलब्ध होता है। यदि परीक्षण की पुष्टि पॉजिटिव है तो आप डॉक्टर से बात करें।

Saliva Test

इस टेस्ट में आपके गाल के अंदर से लार लेने के लिए एक कॉटन पैड का उपयोग किया जाता है। पैड परिक्षण के लिए एक प्रयोगशाला में दिया जाता है। पॉजिटिव परिणाम आने पर रक्त परीक्षण से इसकी पुष्टि करवाये।

जानें बवासीर का पक्का इलाज घर पर ही 

वायरल लोड परीक्षण

यह परिक्षण आपके रक्त में HIV की मात्रा को मापता है। डीएनए क्रम का उपयोग करके HIV का पता लगाया जाता है।

Tags# HIV के लक्षण कितने दिन में दिखते हैं, HIV कैसे फैलता है, AIDS treatment in hindi, HIV-AIDS ke karan, lakshan Aur Upay

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *